“दांतों के सड़न और पायरिया के घरेलू उपाय”

पायरिया रोग काफी हानिकारक है। प्रतिदिन दांतों की सफाई न होने से अन्न के कण दांतों में सड़न पैदा करते है। मसूड़े को जरा सा दबाने से या बरस करने पर या मंजन करने पर खून निकलता है। यदि ध्यान ना दे तो यह रोग काफी बढ़ जाता है तथा दांत निकालने भी पढ़ सकते हैं। इसके घरेलू उपाय निम्नलिखित है:-

दांतों की शड़न या दांतों में कीड़े लगना

दांतों की सही ढंग से सफाई न करने से दांतों के रोग होते हैं। अत्यधिक कब्ज रहने से तथा खाना न पचने से भी दातों में सड़न होती है।

दांतों को साफ न रखने से और भोजन के बाद कुल्ला न करने से दांतों में कीड़े लग जाते हैं। इसके घरेलू उपचार निम्नलिखित हैं:-

— एक चम्मच शहद में लहसुन का रस मिलाकर चाटने से दांतों की सड़न एवं बदबू दूर होती है।

अदरक का रस और नामक

— थोड़ा सा अदरक का रस और नामक एक गिलास पानी में मिलाकर गर्म करें और उस पानी से कुल्ला करें।

— पपीता की दातून से दांतों के कीड़े नष्ट होते हैं।

अमरूद के पत्ते लौंग और अजवाइन

— अमरूद के 4-5 पत्ते 3-4 लौंग और 5 ग्राम अजवाइन को एक गिलास पानी में उबालें ,ठंडा होने पर इस पानी से कुल्ला करें।

— नींबू के रस में लॉन्ग पीसकर मिलाएं और दांतों पर मलें, दांतों के कीड़े बाहर आ जाएंगे।

— जामुन की छाल को पीसकर पाउडर बनाएं और मंजन की तरह इस्तेमाल करें।

curly haired girl brushing teeth
Photo by RDNE Stock project on Pexels.com

पायरिया रोग काफी हानिकारक है। प्रतिदिन दांतों की सफाई न होने से अन्न के कण दांतों में सड़न पैदा करते है। मसूड़े को जरा सा दबाने से या बरस करने पर या मंजन करने पर खून निकलता है। यदि ध्यान ना दे तो यह रोग काफी बढ़ जाता है तथा दांत निकालने भी पढ़ सकते हैं। इसके घरेलू उपाय निम्नलिखित है:-

पीपल की ताजी दातुन करने पर दांत मजबूती से जाम जाते हैं।

   --- कत्+था मालश्री की छाल +नीम की छाल +सेंधा नमक दो लवण सभी समान मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना ले और दातों में मंजन की तरह लगे।

   --- नीम की कोमल पत्तियां, काली मिर्च, और काला नमक का पाउडर बनाकर प्रतिदिन प्रातः काल सेवन करने से लाभ होता है।

 लटजीरा/चिचहिड़ की दातुन करें। पायरिया में अत्यंत लाभकारी है।

— पीपल की ताजी दातुन करने पर दांत मजबूती से जाम जाते हैं।

— कत्+था मालश्री की छाल +नीम की छाल +सेंधा नमक दो लवण सभी समान मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना ले और दातों में मंजन की तरह लगे।

— नीम की कोमल पत्तियां, काली मिर्च, और काला नमक का पाउडर बनाकर प्रतिदिन प्रातः काल सेवन करने से लाभ होता है।

— लटजीरा/चिचहिड़ की दातुन करें। पायरिया में अत्यंत लाभकारी है।

दातों में सड़न

दांतों की सही ढंग से सफाई न करने से दांतों के रोग होते हैं। अत्यधिक कब्ज रहने से तथा खाना न पचने से भी दातों में सड़न होती है।

दांतों को साफ न रखने से और भोजन के बाद कुल्ला न करने से दांतों में कीड़े लग जाते हैं। इसके घरेलू उपचार निम्नलिखित हैं:-

शहद में लहसुन का रस

— एक चम्मच शहद में लहसुन का रस मिलाकर चाटने से दांतों की सड़न एवं बदबू दूर होती है।

— थोड़ा सा अदरक का रस और नामक एक गिलास पानी में मिलाकर गर्म करें और उस पानी से कुल्ला करें।

curly haired girl brushing teeth
Photo by RDNE Stock project on Pexels.com

पपीता की दातून

— पपीता की दातून से दांतों के कीड़े नष्ट होते हैं।

— अमरूद के 4-5 पत्ते 3-4 लौंग और 5 ग्राम अजवाइन को एक गिलास पानी में उबालें ,ठंडा होने पर इस पानी से कुल्ला करें।

— नींबू के रस में लॉन्ग पीसकर मिलाएं और दांतों पर मलें, दांतों के कीड़े बाहर आ जाएंगे।

जामुन की छाल

— जामुन की छाल को पीसकर पाउडर बनाएं और मंजन की तरह इस्तेमाल करें।

पायरिया रोग काफी हानिकारक है। प्रतिदिन दांतों की सफाई न होने से सड़न पैदा करते है। मसूड़े को जरा सा दबाने से या बरस करने पर या मंजन करने पर खून निकलता है। यदि ध्यान ना दे तो यह रोग काफी बढ़ जाता है तथा दांत निकालने भी पढ़ सकते हैं। इसके घरेलू उपाय निम्नलिखित है:-

— पीपल की ताजी दातुन करने पर दांत मजबूती से जाम जाते हैं।

— कत्+था मालश्री की छाल +नीम की छाल +सेंधा नमक दो लवण सभी समान मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना ले और दातों में मंजन की तरह लगे।

— नीम की कोमल पत्तियां, काली मिर्च, और काला नमक का पाउडर बनाकर प्रतिदिन प्रातः काल सेवन करने से लाभ होता है।

 कत्+था मालश्री की छाल +नीम की छाल +सेंधा नमक दो लवण सभी समान मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना ले और दातों में मंजन की तरह लगे।
Dental Implants Surgery Concept Pen Tool Created Clipping Path Included in JPEG Easy to Composite.

लटजीरा/चिचहिड़ की दातुन करें

— लटजीरा/चिचहिड़ की दातुन करें। पायरिया में अत्यंत लाभकारी है।

— पीपल की ताजी दातुन करने पर दांत मजबूती से जाम जाते हैं।

— कत्+था मालश्री की छाल +नीम की छाल +सेंधा नमक दो लवण सभी समान मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना ले और दातों में मंजन की तरह लगे।

— नीम की कोमल पत्तियां, काली मिर्च, और काला नमक का पाउडर बनाकर प्रतिदिन प्रातः काल सेवन करने से लाभ होता है।

— लटजीरा/चिचहिड़ की दातुन करें। पायरिया में अत्यंत लाभकारी है।