“स्मरण शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपचार: युवाओं और बुढ़ापे में कमजोर स्मरण शक्ति का समाधान”

Exercise Can Improve Your Memory: Delve into the surprising connection between physical activity and cognitive function, proving that exercise is not just for the body but also for the mind.

स्मरण शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपचार

कमजोर स्मरण शक्ति आजकल प्रातः युवा लोगों में देखी जाती है। बुढ़ापे में भी इसकी आम शिकायत रहती है। अत्यधिक चिंता या भय से ग्रस्त होने पर अथवा क्रोध या शोक से प्रभावित होने पर या अत्यधिक पढ़ने से स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है। इसको ठीक करने के घरेलू उपचार निम्नलिखित है:-

शंखपुष्पी

— शंखपुष्पी को पीसकर चूर्ण बनाएं और 250 ग्राम दूध में आधा चम्मच शंखपुष्पी और एक चम्मच शहद मिलकर प्रातः काल लें।

— प्रति कल सुबह गाय के दूध के साथ एक आवाले का मुरब्बा लेने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

— गाय के दूध में 8 से 10 खजूर उबालकर पीने से स्वस्थ शक्ति बढ़ती है।

मुलहठी

— गाय के दूध में मुलहठी का एक चम्मच चूर्ण डालकर पिए।

— पीपल के पेड़ की छाल का चूर्ण शहद के साथ चाटें।

आम का रस, अदरक का रस, और तुलसी के पत्तों का रस

— आम का रस, अदरक का रस, और तुलसी के पत्तों का रस बराबर मात्रा में लेकर शहर के साथ उपयोग करें।

कमजोर स्मरण शक्ति आजकल प्रातः युवा लोगों में देखी जाती है। बुढ़ापे में भी इसकी आम शिकायत रहती है। अत्यधिक चिंता या भय से ग्रस्त होने पर अथवा क्रोध या शोक से प्रभावित होने पर या अत्यधिक पढ़ने से स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है। इसको ठीक करने के घरेलू उपचार निम्नलिखित है:-

— शंखपुष्पी को पीसकर चूर्ण बनाएं और 250 ग्राम दूध में आधा चम्मच शंखपुष्पी और एक चम्मच शहद मिलकर प्रातः काल लें।

आवाले का मुरब्बा

— प्रति कल सुबह गाय के दूध के साथ एक आवाले का मुरब्बा लेने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

— गाय के दूध में 8 से 10 खजूर उबालकर पीने से स्वस्थ शक्ति बढ़ती है।

— गाय के दूध में मुलहठी का एक चम्मच चूर्ण डालकर पिए।

— पीपल के पेड़ की छाल का चूर्ण शहद के साथ चाटें।

— आम का रस, अदरक का रस, और तुलसी के पत्तों का रस बराबर मात्रा में लेकर शहर के साथ उपयोग करें।

कमजोर स्मरण शक्ति आजकल प्रातः युवा लोगों में देखी जाती है। बुढ़ापे में भी इसकी आम शिकायत रहती है। अत्यधिक चिंता या भय से ग्रस्त होने पर अथवा क्रोध या शोक से प्रभावित होने पर या अत्यधिक पढ़ने से स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है। इसको ठीक करने के घरेलू उपचार निम्नलिखित है:-

शंखपुष्पी को पीसकर चूर्ण बनाएं और 250 ग्राम दूध में आधा चम्मच शंखपुष्पी और एक चम्मच शहद मिलकर प्रातः काल लें।

— प्रति कल सुबह गाय के दूध के साथ एक आवाले का मुरब्बा लेने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

— गाय के दूध में 8 से 10 खजूर उबालकर पीने से स्वस्थ शक्ति बढ़ती है।

— गाय के दूध में मुलहठी का एक चम्मच चूर्ण डालकर पिए।

— पीपल के पेड़ की छाल का चूर्ण शहद के साथ चाटें।

— आम का रस, अदरक का रस, और तुलसी के पत्तों का रस बराबर मात्रा में लेकर शहर के साथ उपयोग करें।

कमजोर स्मरण शक्ति आजकल प्रातः युवा लोगों में देखी जाती है। बुढ़ापे में भी इसकी आम शिकायत रहती है। अत्यधिक चिंता या भय से ग्रस्त होने पर अथवा क्रोध या शोक से प्रभावित होने पर या अत्यधिक पढ़ने से स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है। इसको ठीक करने के घरेलू उपचार निम्नलिखित है:-

— शंखपुष्पी को पीसकर चूर्ण बनाएं और 250 ग्राम दूध में आधा चम्मच शंखपुष्पी और एक चम्मच शहद मिलकर प्रातः काल लें।

— प्रति कल सुबह गाय के दूध के साथ एक आवाले का मुरब्बा लेने से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

गाय के दूध और खजूर

— गाय के दूध में 8 से 10 खजूर उबालकर पीने से स्वस्थ शक्ति बढ़ती है।

— गाय के दूध में मुलहठी का एक चम्मच चूर्ण डालकर पिए।

पीपल के पेड़ की छाल

— पीपल के पेड़ की छाल का चूर्ण शहद के साथ चाटें।

— आम का रस, अदरक का रस, और तुलसी के पत्तों का रस बराबर मात्रा में लेकर शहर के साथ उपयोग करें।